Thursday, April 29, 2010

ज़िन्दगी ढूँढती है जीने के लिए ....



ज़िन्दगी ढूँढती है जीने के लिए
फिर से वही "पल"
कहते हैं सभी जी लो ज़िन्दगी
"आज" में,
ज़िन्दगी में होता नहीं है"कल"...

कुछ गुज़रे हुए "पल" ऐसे होते हैं
जो जीए जाते हैं हर "पल"
जिनकी महक "याद" बनकर
ता-उम्र महकाती है
हर "सांस" में
जीया हुआ हर "पल"
फिर क्या ज़िन्दगी में
"आज" और "कल"......

8 comments:

  1. कहते हैं सभी जी लो ज़िन्दगी
    "आज" में,
    ज़िन्दगी में होता नहीं है"कल"..

    आपने बहुत ही अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर रचना. बधाई.

    ReplyDelete
  3. bahut sahi, jo hai aaj hi hai.....kal kisne dekha......

    ReplyDelete
  4. Aap sabhi ki izzat afzayee ka bahut bahut shukriya

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  6. blog se jayada main aapki khubsurti par fida hoon.
    plz ise positive comment samajhana

    ReplyDelete
  7. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,

    साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete